कार्यक्रम विवरण चयन  प्रक्रिया समय सारिणी

संसाधन

सवाल जवाब घोषणा संपर्क करें

   

कार्यक्रम विवरण

पर्यावरणीय सरोकार जैसे जलवायु परिवर्तन, जैवविविधता पर मंडराता खतरा, कचरे की बढ़ती मात्रा, गिरता हुआ भू-जल स्तर, नदियों की स्थिति आदि न केवल वैश्विक स्तर पर बल्कि स्थानीय स्तर पर भी चिंता का विषय बने हुए हैं. उत्तर प्रदेश भी इन सभी समस्याओं से अछूता नही है. जहाँ एक ओर पर्यावरणीय संरक्षण नीतियाँ  व संबंधित विभाग इस दिशा मे प्रयासरत हैं कि पर्यावरण की स्थिति मे सुधार हो वहीं इस प्रयास मे लोगों की भागीदारी अत्यंत  महत्वपूर्ण हो जाती है. उत्तर प्रदेश को टिकाऊ विकास की दिशा मे कार्य करने के लिए प्रदेश के सभी लोगों का सहयोग आवश्यक होगा. इसके लिए लोगों के सोचने के ढंग में बदलाव लाने की बड़ी आवश्यकता है. ऐसा देखा गया है कि बच्चों मे शुरुआत से ही यदि सही सोच व समझ विकसित की जाए तो वे समाज मे एक बड़े बदलावकर्ता के रूप मे उभरकर सामने आते हैं. वे न केवल अपने आस-पास के लोगों को प्रेरित करने की क्षमता रखते हैं बल्कि कुछ नया करने के लिए भी प्रोत्साहित रहते हैं. बच्चों की इसी क्षमता को यदि सही मार्गदर्शन व प्रेरणा दी जाए, तो वे एक नेतृत्वकर्ता के रूप मे उभर सकते हैं.  

विश्व स्तर पर भी इस बात को स्वीकारा गया है कि पृथ्वी की सुरक्षा एवं संरक्षा मे जुड़े हुए विद्यार्थियों मे भावी युवा पर्यावरण लीडर बनने की अपूर्व संभावना होती है. अपने विद्यालय तथा आस-पास के क्षेत्रों मे विद्यार्थी सकारात्मक परिवर्तन लाने मे सक्षम होते हैं, इसी बात को ध्यान मे रखते हुए उत्तर प्रदेश राज्य में एक ऐसे युवा कैडर को तैयार करने की आवश्यकता है जो बदलाव की ओर कार्य करने वाले लीडर के रूप मे अन्य लोगों के लिए प्रेरणास्रोत बन सकें। इन्ही बातों को ध्यान में रखते हुए उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड व पर्यावरण शिक्षण केंद्र (सी.ई.ई.) के सहयोग से उत्तर प्रदेश मे 'युवा पर्यावरण लीडर' परियोजना को राज्य भर के विभिन्न विद्यालयों व युवा विद्यार्थियों को इस कार्यक्रम से जोड़ने जा रहा है. इस अभियान से जुड़ने वाले विद्यार्थी न केवल पृथ्वी के संरक्षक व जिम्मेदार नागरिक के रूप मे उभरेंगे बल्कि अपने कार्यों से समाज को भी प्रेरित करेंगे।

कार्यक्रम में  कौन भाग ले सकता है 

  • कक्षा 8 से 11 में पढ़ने वाले व 13 से 17 वर्ष की आयु के बीच के विद्यार्थी हो.
  • उत्तर प्रदेश में रह/पढ़ रहे हों तथा पर्यावरण  संरक्षण एवं टिकाऊ विकास के प्रति वचनबद्ध नेतृत्वकर्ता के रूप में कार्य करने के लिए उत्साहित हो.
  • पूरे चयन प्रक्रिया में भागीदारी करे तथा चयनित होने के उपरांत रूचि लेते हुए कार्यवाही योजना को क्रियान्वित कर सकता हो .
  • कंप्यूटर की मूलभूत जानकारी रखता हो एवं इंटरनेट का प्रयोग करना जानता हो
  • अंग्रेजी या हिंदी भाषा में दक्ष हो .

विद्यालय केवल उन्ही विद्यार्थियों का नामांकन करें जिनकी ईमेल आईडी बनी हो तथा चालू अवस्था में हो.

कार्यक्रम में प्रतिभाग करने हेतु नामांकन

  •  इच्छुक  विद्यालय जो इस कार्यक्रम से जुड़ना चाहते हों वे अपने विद्यालय तथा चयनित 10 विद्यार्थियों का नामांकन www.paryavaranmitra.in पर कार्यक्रम के लिए बनाये गए वेबपेज पर जाकर नामांकित करें.
  • प्रत्येक विद्यालय कक्षा 8 से 1113 से 17 वर्ष की आयु के बीच के अधिकतम 10 विद्यार्थियों का ऊपर बताये गए मानकों के आधार पर चयन कर नामांकन कर सकते हैं.
  • विद्यालय द्वारा विद्यार्थियों के नामांकन के उपरान्त, उक्त विद्यार्थियों को अपना नामांकन करना होगा.
  • विद्यालय तथा विद्यालय द्वारा नामांकन के उपरान्त विद्यार्थी द्वारा नामांकन अनिवार्य है एवं दोनों ही नामांकन 15 से 28 जुलाई के मध्य हो जाना चाहिए.

नामांकन  उपरान्त विद्यार्थी को अपने व्यक्तिगत ईमेल आईडी पर एक यूजर आईडी तथा पासवर्ड भेजी जायेगी जिसका उपयोग करते हुए विद्यार्थी ऑनलाइन प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता में प्रतिभाग कर सकते हैं.

 

 

Top 

 

 

चयन प्रक्रिया

युवा पर्यावरण लीडर कार्यक्रम के लिए विद्यार्थियों का चयन निम्न चरणों द्वारा किया जाएगा

चरण  1 - निबंध व कार्यवाही योजना का प्रेषण

  • चयनित विद्यार्थियों को उनके विद्यालय व उसके आस-पास की पर्यावरणीय समस्याओं को आधार बनाते हुए एक विस्तृत कार्यवाही योजना तथा दिए गए निबंध विषय पर एक निबंध तैयार कर 2-6 अगस्त के बीच ईमेल द्वारा yuva.enviroleader@ceeindia.org पर प्रेषित करना होगा.
  • निबंध के विषय तथा कार्यवाही योजना का प्रारूप सी.ई.ई  द्वारा कार्यक्रम की वेबपेज पर 2 अगस्त से उपलब्ध करा दिया जाएगा.
  • समयसीमा के अंदर भेजी गयी योजनाओं तथा निबंध की समीक्षा सी.ई.ई  के विशेषज्ञ समिति द्वारा की जायेगी जिसके आधार पर अगले चरण में प्रतिभाग  करने के लिए संभावित विद्यार्थियों का चयन किया जाएगा. 

चरण  2 - टेलीफोनिक साक्षात्कार

  • सी.ई.ई द्वारा चयनित विद्यार्थियों का टेलीफोनिक साक्षात्कार किया जाएगा जो 11-13 अगस्त के बीच होना प्रस्तावित है.
  • ऑनलाइन प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता, कार्यवाही योजना एवं निबंध लेखन तथा टेलीफोनिक साक्षात्कार के आधार पर राज्य से लगभग 35-40 विद्यार्थियों को युवा पर्यावरण लीडर के रूप में चयनित किया जाएगा जिसकी घोषणा 14 अगस्त 2014 को कार्यक्रम की वेबपेज पर की जायेगी. 

चरण  3 - राज्य स्तरीय युवा पर्यावरण लीडर सम्मिट/ सम्मेलन

  • चयनित विद्यार्थियों के लिए एक राज्य स्तरीय 5 दिवसीय युवा पर्यावरण लीडर सम्मिट/ सम्मेलन का आयोजन लखनऊ में किया जाएगा। इस सम्मेलन का आयोजन अगस्त माह में 25-29 अगस्त के बीच होना प्रस्तावित है.
  • सम्मेलन के दौरान विद्यार्थियों की पर्यावरण एवं टिकाऊ विकास से जुड़े विभिन्न मुद्दों तथा  उनके द्वारा तैयार किये गए कार्यवाही योजना को सुद्धृण किया जाएगा.

देश भर के जाने-माने पर्यावरणविदों व नवीन सोच को बढ़ावा देने वाले विशेषज्ञों को छात्रों को प्रेरित करने हेतु आमंत्रित किया जाएगा.  

चरण  4 - कार्यवाही योजना का क्रियान्वयन

  • शिखर सम्मेलन के उपरांत प्रत्येक विद्यार्थी को 5 महीनों की अवधी के दौरान (सितम्बर 2014 - जनवरी 2015) उनके द्वारा बनाई गयी कार्ययोजना को क्रियान्वित करना होग. इस कार्य को करने में विद्यालय के प्रबंधकों तथा शिक्षकों का सहयोग अपेक्षित है.
  • सी.ई.ई. द्वारा युवा पर्यावरण लीडरों का समय-समय पर मार्गदर्शन किया जाएगा.
  • प्रत्येक युवा लीडर को किये गए कार्ययोजना की एक विस्तृत रिपोर्ट 30 जनवरी 2015 तक सी.ई.ई. कार्यालय को प्रेषित करनी होगी. 

चरण  5- निर्णय प्रक्रिया

  •  निर्णायक मंडली द्वारा सभी रिपोर्टों तथा विद्यार्थियों द्वारा किये गए कार्यों की समीक्षा एवं मूल्यांकन किया जाएगा.
  • मूल्यांकन के आधार पर अंतिम परिणामों की घोषणा मार्च 2015 में की जायेगी.
  • एक राज्य स्तरीय समारोह  दौरान निम्नलिखित युवा पर्यावरण लीडर पुरस्कार वितरित किये जाएंगे:
    • 10 सर्वश्रेष्ठ युवा पर्यावरण लीडर छात्र
    •   5  सर्वश्रेष्ठ युवा पर्यावरण लीडर शिक्षक
    •   5 सर्वश्रेष्ठ युवा पर्यावरण लीडर विद्यालय

 

Top  

 

 

समय सारिणी


 

 

 

Top 

 

संसाधन

 

   
  Stories of Paryavaran Mitra Young Leader for Change 2013-14
  Stories of National level Paryavaran Mitra Young Leader for Change 2012

 

Top 

 

ज्यादातर पूछे जाने वाले प्रश्न


प्रश्न 1. युवा पर्यावरण लीडर कार्यक्रम क्या है ? 

उत्तर-  युवा पर्यावरण लीडर कार्यक्रम पर्यावरण शिक्षण केन्द्र और उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की एक संयुक्त पहल है। इस अभियान से जुड़ने वाले विद्यार्थी न केवल पृथ्वी के संरक्षक व जिम्मेदार नागरिक के रूप मे उभरेंगे बल्कि अपने कार्यों से समाज को भी प्रेरित करेंगे। कार्यक्रम का उद्देश्य छात्रों में आत्मविश्वास, प्रेरणा और लीडरशिप के गुण और क्षमता को विकसित करना है जिससे की वे अपने विद्यालय और अपने आसपास के मुद्दो और चुनातियों पर सकारात्मक कार्य करते हुए हल ढूँढ संके।       

 

प्रश्न 2. क्या इस कार्यक्रम में भाग लेने के लिए कोई पंजीकरण शुल्क या कोई अन्य शुल्क है ?

उत्तर -  कार्यक्रम का कोई पंजीकरण शुल्क नही है अथवा प्रतिभागी को कार्यक्रम के किसी भी चरण में कोई कीमत/शुल्क नही देना हैं। भावी युवा लीडर के रूप में चयनित होने के उपरांत कार्यवाही योजना को क्रियान्वित करने के दौरान जो भी न्यूनतम कीमत/खर्च होगा, वह प्रतिभागी को करना होगा।  इसके विस्तृत उत्तर के लिए प्रश्न संख्या 13 को देंखे। 

 

प्रश्न 3. मैं कक्षा 8 का छात्र हूँ।  क्या मैं इस कार्यक्रम में प्रतिभाग करने के लिए योग्य हूँ ? 

उत्तर - हाँ, आप कार्यक्रम में प्रतिभाग करने के योग्य हैं। उत्तर प्रदेश के कक्षा 8 से 11 में पढ़ने वाले व 13 से 17 वर्ष के विद्यार्थी और जो अपने समीपवर्ती पर्यावरण जैसे अपने विद्यालय, आस पास  समुदाय में बदलाव लाने का विचार रखते हों व अपने सकारात्मक प्रयासों से बदलाव लाना चाहते हों, वे कार्यक्रम में प्रतिभाग करने के योग्य हैं। 

अन्य आवश्यक योग्यताओं में, छात्र को पूरी चयन प्रक्रिया में भाग लेना चाहिए और यदि भावी युवा लीडर के रूप में चयनित होता है तो अपनी कार्यवाही योजना को क्रियान्वित करने में समय देने के लिए तैयार हो।  

 

प्रश्न 4. क्या मुझे अपने विद्यालय के  माध्यम से पंजीकरण करना आवश्यक है? 

उत्तर - हाँ, पंजीकरण आपके विद्यालय के माध्यम से होने पर ही स्वीकृत होगा। पंजीकरण प्रक्रिया में दो चरण है:

I. विद्यालय को इस कार्यक्रम में प्रतिभाग करने के लिए विद्यालय का पंजीकरण फॉर्म भरकर पंजीकृत करना  आवशयक है (जो कि www.paryavaranmitra.in के कार्यक्रम पेज पर उपलब्ध है)I  प्रत्येक विद्यालय कक्षा 8 से 11 के अधिकतम 10 छात्रों का पंजीकरण कर सकता हैI

II. विद्यालय द्वारा पंजीकरण होने के बाद, इच्छुक और योग्य प्रतिभागी को www.paryavaranmitra.in के कार्यक्रम पेज पर ऑन लाईन पंजीकरण करना आवश्यक हैI 

 

प्रश्न 5. छात्रों की ईमेल आईडी चालू अवस्था में होना क्यों आवश्यक हैं ?

उत्तर - ऑनलाइन  परीक्षा में प्रतिभाग करने के लिए व्यक्तिगत ईमेल आईडी होना आवश्यक है। प्रत्येक छात्र का यूजर आईडी तथा पासवर्ड केवल उसकी मेल आई डी पर भेजी जाएगी। और दूसरा यह कि चयनित विद्यार्थियों से समय समय पर केंद्र से संपर्क ई मेल द्वारा ही होगा जिसके लिए प्रत्येक प्रतिभागी का ईमेल आई डी आवश्यक है।

 

प्रश्न 6. कम्प्यूटर और इंटरनेट को जानने और समझने पर क्यों जोर दिया जा रहा है?

उत्तर - युवा पर्यावरण लीडर की चयन प्रक्रिया के प्रथम, द्वितीय और तृतीय चरण अर्थात पंजीकरण, ऑनलाइन पर्यावरण परीक्षा और निबंध और कार्ययोजना को जमा करने के लिए छात्रों को कम्प्यूटर और इंटरनेट उपयोग का उचित ज्ञान होना आवश्यक है।  युवा पर्यावरण लीडर के लिए चयनित किये गए छात्रों को अपनी परियोजना की कार्य योजना पर कार्य करना होगा और अपनी रिपोर्ट तथा फीडबैक को केंद्र के साथ साझा करना होगा जिसके लिए फिर से कम्प्यूटर और इंटरनेट मूलभूत जानकारी होनी आवश्यक है।

 

प्रश्न 7. क्या एक विद्यालय 10 से अधिक छात्रों का पंजीकरण कर सकते हैं ?

उत्तर - नही, इस कार्यक्रम में अधिक से अधिक विद्यालयों को प्रतिभाग करने का मौका देने के लिए अधिकतम 10 छात्र प्रति विद्यालय निर्धारित किया गया है। इस कार्यक्रम में छात्रों के पंजीकरण के लिए बनाया गया सॉफ्टवेयर किसी एक विद्यालय से 10 से अधिक छात्रों को स्वीकृत नही करेगा।  

 

प्रश्न 8. एक विद्यालय के रूप में हमारे लिए छात्रों का चयन करना कठिन है। हम इस कार्यक्रम के लिए छात्रों का चयन कैसे करें ?

उत्तर - जैसा कि प्रति विद्यालय छात्रों का पंजीकरण संख्या निश्चित है अत: विद्यालय अपनी चयन प्रक्रिया आयोजित कर सकते हैं। आप लिखित प्रश्नोत्तरी करा सकते हैं और छात्रों के प्रदर्शन के आधार पर उनमे से 10 छात्रों का चयन कर सकते हैं। हालाँकि विद्यालय इस कार्यक्रम के लिए 10 छात्रों का चयन करने के लिए अपनी चयन प्रक्रिया अपनाने के लिए स्वतंत्र है।  

 

प्रश्न 9. मैं हिंदी माध्यम के विद्यालय का छात्र हूँ और जानना चाहता हूँ कि क्या मैं इस कार्यक्रम में हिंदी भाषा का  चयन करके प्रतिभाग कर  सकता हूँ?

उत्तर - हाँ।  हिंदी भाषा का चयन करके भी आप इस कार्यक्रम में प्रतिभाग कर सकते हैं।  कार्यक्रम इस तरह से बनाया गया है कि हिंदी और अंग्रेजी दोनों माध्यम के छात्र बराबर प्रतिभाग कर सके।  कार्यक्रम की वेबसाइट, ब्रोशर और ऑनलाइन परीक्षा दोनों ही भाषाओं में विकसित की गयी हैं।

 

प्रश्न 10. ऑनलाइन पर्यावरण परीक्षा का स्तर क्या होगा और मैं इस परीक्षा में कैसे प्रतिभाग कर सकता हूँ?

उत्तर - छात्र अपनी यूजर आई डी और पासवर्ड ( विस्तृत जानकारी के लिए, वेबसाइट में उपलब्ध भाग 'चयन प्रक्रिया' को देंखे ) का प्रयोग करके ऑनलाइन परीक्षा में प्रतिभाग कर सकते हैं।  प्रत्येक प्रतिभागी को परीक्षा देने का सिर्फ एक मौका मिलेगा।  पहला प्रयास मान्य होगा जिसके अंक आपकी योग्यता के लिए माने जायेंगे। ऑनलाइन परीक्षा में 30 बहुविकल्पीय प्रश्न होंगे जिसके लिए आपको 45 मिनट का समय दिया जायेगा। प्रत्येक सही उत्तर के लिए 1 अंक होगा। गलत उत्तर के लिए कोई अंक नही काटा जाएगा। प्रश्न सामान्य पर्यावरण, टिकाऊ विकास, पारिस्थितिकी और वन्य जीव इत्यादि पर आधारित होंगे।  ऑनलाइन परीक्षा की मूलभूत जानकारी हेतु, सभी प्रतिभागियों के लिये एक ट्रायल परीक्षा का आयोजन 28 जुलाई 2014 को किया जायेगा।  

 

प्रश्न 11. मैं निबंध का विषय और कार्यवाही योजना प्रारूप कहाँ से प्राप्त करूँगा और उसे कैसे जमा करूँगा?

उत्तर - निबंध का विषय और कार्यवाही योजना का प्रारूप दिशा निर्देशो के साथ 2 अगस्त 2014 को कार्यक्रम के वेब पेज पर 'घोषणा'  भाग पर अपलोड कर दिए जायेंगे । इसके अलावा चयनित छात्रों के पंजीकृत मेल आई डी पर निबंध के विषय और परियोजना कार्य योजना का प्रारूप भेज दिए जायेंगे।  

दोनों ही दस्तावेज 2-6 अगस्त 2014 तक ई मेल से  yuva.enviroleader@ceeindia.org पर जमा करना आवश्यक हैं। जिन्हे हिन्दी टाइपिंग में कठिनाई होती है, वे हाथ से लिखकर और स्कैन करके ऊपर दी गयी मेल आई डी पर अंतिम तिथि तक भेज सकते हैं।

 प्रश्न 12. कार्यवाही योजना क्या हैं ?

उत्तर - मूलरूप से कार्यवाही योजना, गतिविधियों की रूपरेखा हैं जिसे आपने अपने विद्यालय और समुदाय के आस पास के सामाजिक - आर्थिक मुद्दों के समाधान के लिए बनाया है। यह एक दस्तावेज है जो कि  आपकी परियोजना की  समय सीमा, कौन से कार्य पूरे करने और बजट इत्यादि की रूपरेखा बताता है। इस पर और अधिक जानकारी के लिए, आप कार्यक्रम वेबसाइट के 'संसाधन' भाग को देख सकते हैं।  

 

प्रश्न 13. मैं कौन सी कार्यवाही योजना शुरू कर सकता हूँ  और मैं परियोजना की गतिविधियाँ करने के लिए फंड कहाँ से प्राप्त कर सकता हूँ?

उत्तर - कार्यवाही योजना आपके आस पास के किसी भी पर्यावरणीय और टिकाऊ विकास से सम्बंधित मुद्दों, जो आपको परेशान करते हों और आपको लगता हो कि आप इसके समाधान के लिए कुछ कर सकते  हैं,  पर केंद्रित होनी चाहिए। अत: परियोजना ऊर्जा सरंक्षण, जैविवधिता एवं हरियाली, जल संरक्षण, स्वच्छता को बढ़ावा देने, कचरा प्रबंधन, आपके स्थानीय संस्कृति और विरासत इत्यादि पर केंद्रित हो सकती है।

जैसा कि आप छात्र है और आपके पास सीमित फंड हैं अत: परियोजना इसके अनुसार ही सोची और बनायी जानी चाहिए। सी.ई.ई. आपको परियोजना पूरा करने के लिए किसी भी प्रकार का फंड उपलब्ध नही कराएगा और न ही इस प्रकार की परियोजना करने को प्रोत्साहित करेगा जिसमें अधिक फंड की आवश्यकता हो।  

प्रारूप और परियोजना की कार्य योजना के लिए कुछ सुझाव  वेब पेज पर 2 अगस्त 2014 से घोषणा और संसाधन भाग में उपलब्ध होंगे।  

 

प्रश्न 14. राज्य स्तरीय सम्मेलन क्या है?

उत्तर - राज्य स्तरीय सम्मेलन 5 दिन की आवासीय कार्यशाला है जिसे लखनऊ में चयनित किये गए छात्रों के लिए आयोजित किया जायेगा। यह सम्मेलन अगस्त 2014 के अंतिम सप्ताह में आयोजित किया जायेगा जो कि नये विचारों, लीडरशिप के विभिन्न पहलुओं को समझने और पर्यावरण और टिकाऊ विकास की दिशा में कार्य कर करने में सहायक होगीI  साथ ही साथ चयनित युवा विद्यार्थियों को पर्यावरण विशेषज्ञों से बातचीत करने का भी अवसर मिलेगा ।  

 

प्रश्न 15. यदि मैं चयनित होता हूँ तो परियोजना की कार्य योजना कैसे कार्यान्वित करूँगा ?

उत्तर- राज्य स्तर सम्मेलन छात्रों को एक अवसर उपलब्ध कराता है जहाँ वे अपने प्रभारी शिक्षक और विशेषज्ञों की मदद से अपनी कार्य योजना निश्चित कर सकते हैं। एक बार कार्य योजना निश्चित हो जाने पर, प्रत्येक छात्र अपने विद्यालय प्रबंधन, प्रभारी शिक्षक, माता -पिता और सी.ई.ई. के नियमित दिशा निर्देशो की मदद से अपनी परियोजना शुरू कर सकते हैं। सफलता, असफलता, सीख और अनुभव परियोजना कार्यान्वयन का महत्त्वपूर्ण भाग हैं और यह  परियोजना कार्यान्वयन के प्रत्येक चरण में सीखने और कुशलता विकसित करने पर केंद्रित हैं।  

 

प्रश्न 16. मेरी परियोजना का मूल्यांकन कौन करेगा ?

उत्तर - सर्वश्रेष्ठ युवा पर्यावरण लीडर अवार्ड के लिए छात्रों की रिपोर्ट का पुनरवलोकन व मूल्यांकन जूरी पैनल द्वारा किया जायेगा जिसमे सी.ई.ई. के विशेषज्ञ और पर्यावरण और टिकाऊ विकास के क्षेत्र में कार्य  कर रहे अन्य उत्कृष्ट लोग होंगे।  

 

प्रश्न 17. युवा पर्यावरण लीडर कार्यक्रम में कौन से अवार्ड दिए जायेंगे ?

उत्तर - युवा पर्यावरण लीडर कार्यक्रम के अंतर्गत निम्नलिखित अवार्ड दिए जाएंगे:

o       10 श्रेष्ठ युवा पर्यावरण लीडर (युवा लीडर प्रमाण-पत्र, शील्ड और संसाधन सामग्री )

o       5  श्रेष्ठ प्रभारी शिक्षक (शिक्षक  प्रमाण-पत्र, शील्ड और संसाधन सामग्री)

o       5 श्रेष्ठ समर्थक विद्यालय (विद्यालयप्रमाण-पत्र, शील्ड और संसाधन सामग्री)

अवार्ड, मार्च 2015 राज्य स्तरीय कार्यक्रम के दौरान दिया जायेगा।  

 

प्रश्न 18.  यदि कार्यक्रम से सम्बंधित मेरा कोई अन्य प्रश्न हो तो मुझे क्या करना चाहिए ?

उत्तर - किसी अन्य प्रश्न के लिए, हमें yuva.enviroleader@ceeindia.org अथवा ceenorth@ceeindia.org पर लिखें। आप हमे दूरभाष संख्या: 0522-2716628, फैक्स संख्या: 0522- 2716570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। 

 

 

Top 

 

 

 


घोषणा


चयनित क्षात्रों की सूची


निबंध का विषय

 


कार्यवाही योजना

 

 

Top  

 

 

 

 

संपर्क करें

पर्यावरण शिक्षण केंद्र

उत्तर क्षेत्रीय कार्यालय (सी.ई.ई. नॉर्थ)

19/323 इंदिरा नगर लखनऊ - 226 016

दूरभाष : 0522-2716570 फैक्स : 0522-2716628

वेबसाइट - www.paryavaranmitra.in

ईमेल -  yuva.enviroleader@ceeindia.org, ceenorth@ceeindia.org

 

Top 

 

 
     

 

 

 


CMS Development & SEO : Infilon Technologies Pvt. Ltd. Copyright © 2011 Centre for Environment Education. All rights reserved.